अपराध

बाईक को बेचने से मिले पैसे से शौक पुरे करने के लिए 40,000 / -रू . में महंगा मोबाईल खरीद कर चला रहा था, और अपनी माँ को गिफ्ट देने के लिए चांदी एवं सोने का गहना खरीदकर छुपाकर रखा था , किंतु गिफ्ट देने के पहले ही पकड़ा गया बाईक चोर गिरोह

मनीराम सिन्हा की रिपोर्ट नरहरपुर- थाना नरहरपुर स्टाप तथा सायबर सेल टीम द्वारा थाना नरहरपुर से दिनांक 27 सितंबर को भनसुली निवासी बालसिंग मरकाम ने थाना नरहरपुर में लिखित आवेदन पेश कर अपने घर के अंदर से मोटर सायकल क्रमांक सीजी -05 , डब्ल्यू -7189 के चोरी होने का रिपोर्ट दर्ज कराया था , जिस पर थाना नरहरपुर में अपराध कायम कर विवेचना में लिया गया था। विवेचना दौरान प्रार्थी से पूछताछ एवं पूर्व में थाना क्षेत्र में अन्य बाईक चोरी के समय प्राप्त तकनीकी साक्ष्य के विश्लेषण बाद जरिये मुखबीर सूचना मिला कि प्रार्थी बालसिंह मरकाम पिता कृतराम मरकाम उम्र 27 वर्ष साकिन अस्पताल पारा भनसुली थाना नरहरपुर क्षेत्र में चोरी हुए बाईक को सिहावा क्षेत्र में देखा गया , कि सूचना के आधार पर तथा सीसीटीवी फुटेज के विश्लेषण बाद थाना नरहरपुर स्टाप द्वारा सिहावा थाना क्षेत्र के आमगांव जाकर फुटेज के संदेही सिद्धार्थ कुमार सलाम पिता कुबेर सिंह सलाम को पूछताछ किया गया।शुरूआती पूछताछ में गोलमोल जवाब देकर पुलिस को गुमराह करते रहे- किन्तु ज्यादा देर तक उसका झुठ पुलिस के सामने नहीं टिक पाया और चोरी करना कबुल किया साथ ही चोरी में शामिल उसके गिरोह के अन्य सदस्यों के नाम का भी खुलासा किया जिसमें परवीन कुमार वट्टी पिता जीवन लाल , भावेश कुमार कश्यप पिता नरेन्द्र ,डानेन्द्र ध्रुव पिता चन्दन ध्रुव तथा दो अन्य नाबालिग बालकों के नाम का खुलासा किया जिनसे हिकमती अमली से पूछताछ किया गया ।, जिन्होंने कांकेर , धमतरी , कोण्डागांव , तथा उड़ीसा के आसपास में बाईक चोरी करना कबुल किया , और लोगों को झांसे में देकर पैसे की जरूरत होना बताकर तथा डिजैन देवांगन पिता मोहन लाल देवांगन निवासी बेलर व राहुल सरदार पिता अनंत सरदार निवासी छाताबेड़ा , जिला नवरंगपुर , उड़ीसा के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र के भोले – भाले लोगों को बाईक को बेचना बताया । आरोपियों ने उड़ीसा के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र के भोले – भाले लोगों को बाईक को बेचना बताया । सभी आरोपी और विधि से संघर्षरत् बालक के निशानदेही पर आसपास व क्षेत्र में चोरी किये गये विभिन्न कम्पनियों के मोटर सायकल को बरामद किया गया है । इस बाईक चोर गिरोह का मास्टर माईंड सिद्धार्थ कुमार सलाम ने बताया कि रात में किसी भी समय निकलकर जहां कही मौका मिलता था, बाईक को उठा लेते थे , और स्वीच को डायरेक्ट कर चालु कर कहीं भी सुनसान जगह में खेत किनारे खड़े कर रखे रहते थे , और ग्राहक तलाश कर पैसे की जरूरत होना बताकर बेच देते थे । गिरोह के सदस्य में से सिद्धार्थ , परवीन , वाहन को कैसे डायरेक्ट करना है , बहुत अच्छे से जानते थे , पूर्व में सिद्धार्थ व परवीन ऑटो शो – रूम में कार्य किये थे तथा गाड़ी के संबंध में पुरी जानकारी रखता है , एवं अन्य सदस्यों को भी बताये थे ।बाईक को बेचने से मिले पैसे से अपने शौक पुरे करने के लिए 40,000 / -रू . में महंगा मोबाईल खरीद कर चला रहा था- गिरोह के सदस्य परवीन ने चोरी के बाईक को बेचने से मिले पैसे से अपने शौक पुरे करने के लिए 40,000 / -रू . में महंगा मोबाईल खरीद कर चला रहा था , और अपनी माँ को गिफ्ट देने के लिए चांदी एवं सोने का गहना खरीदकर छुपाकर रखा था , किंतु गिफ्ट देने के पहले ही पकड़ा गया । बाईक चोर गिरोह के सदस्यों से अलग – अलग कम्पनी के कुल 25 नग मोटर सायकल को बरामद किया गया है । जिसमें से गिरोह का भांडाफोड़ कर चोरों से चोरी की मोटर सायकल बरामद करने में तत्कालिक थाना प्रभारी नरहरपुर उनि एस.आर. नेताम , उप निरी . महेश प्रधान सायबर सेल कांकेर , चौकी प्रभारी हल्बा सौरभ उपाध्याय , सउनि राजकुमार नेताम , सतीश जाधव , प्र.आर. संतराम चक्रधारी , जितेन्द्र डहरे , सतीश वर्मा , फकीर सिन्हा , मोतीराम नागवंशी , आरक्षक रैन कुमार जैन , परदेशी मंडावी , अंकालु नेताम , हेमंत बर्मन , हरिशंकर मंडावी , महेन्द्र चनापे , ललित मंडावी , तथा सायबेर सेल टीम के सदस्य प्र ० आर ० अर्जुन मरकाम , आर . ओमनारायण सिन्हा , सचिन शोरी , राम रतन निषाद , यशवंत नेताम , ज्ञानचंद ठाकुर , शक्ति सिंग , अभिषेक दुबे , दिन – रात लगातार अथक मेहनत कर उल्लेखनीय योगदान दिया है ।

Related Articles

Back to top button
Close
Close