Breaking

देश का चौथा स्तंभ छत्तीसगढ़ में नहीं सुरक्षित, डोंगरगांव में पत्रकारों पर हमला सरकार की नाकामी – नवीन अग्रवाल

महेंद्र शर्मा बंटी डोंगरगढ़- जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के कोर कमेटी के सदस्य नवीन अग्रवाल ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से कहा कि देश का चौथा स्तंभ पत्रकार जगत छत्तीसगढ़ में सुरक्षित नहीं है। छत्तीसगढ़ में इन दिनों यूपी बिहार की कॉपीराइट करने का प्रयास किया जा रहा है यानी गुंडाराज काबिज करने का। कुछ इसी तरह का का उदाहरण कल डोंगरगांव की जामसरार नदी की घटना में देखने को मिला जहां पर कांग्रेस और भाजपा की जुगलबंदी से नदी का सीना चीरकर अवैध रेत का खनन का सच उजागर करने गए पत्रकारों पर इन राजनीतिक गुंडो के द्वारा जानलेवा हमला किया गया जो बहुत ही शर्मनाक और चिंतनीय है। अग्रवाल ने कहा कि अवैध रेत खनन का कवरेज करने गए पांच पत्रकार जिसमे एक महिला पत्रकार भी शामिल हैं इन पर 40 से 50 की संख्या में विभिन्न प्रकार के औजारों से सभी पर जानलेवा हमला करना और महिला पत्रकार से अश्लील हरकतें करना यह बताता है कि अब छत्तीसगढ़ में पत्रकार जगत सुरक्षित नहीं है। दोनो पार्टियों के कार्यकाल में पत्रकारों पर लगातार हो रहे जानलेवा हमले और प्रदेश में बढ़ते अपराध इस ओर इशारा करते हैं कि चोर-चोर मौसेरे भाई, क्योंकि पत्रकार सुरक्षा कानून के सहारे सत्ता में आते ही अपने वादे को भूल गई और सबसे पहले निशाना पत्रकारों को ही बनाया जाने लगा यानी पुराने ढर्रे पर ही चलने लगी। घटना के 24 घंन्टे बाद भी अब तक पुलिस के हाथ कोई आरोपी नहीं लगा जो यह बताने के लिए काफी है इन गुंडो को राजनीतिक सरक्षण प्राप्त है।नवीन अग्रवाल ने बताया कि आज राजनांदगांव जिले में बेधड़क और बेखौफ होकर रेत माफियाओ के द्वारा बड़ी मात्रा में रेत चोरी करके बाजार में बेची जा रही है जिसे पत्रकार जगत द्वारा लगातार अपनी कलम के माध्यम से शासन प्रशासन को अवगत कराया जा रहा है उसके बावजूद कोई भी अधिकारी कार्यवाही करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा है जो यह दर्शाता है कि अधिकारियों को पता है कि रेत माफियाओं को किसका सरंक्षण प्राप्त है। कुछ ऐसा ही हाल मुड़पार नदी का है जहां पर रोजाना बड़ी मात्रा में रेत माफियाओं द्वारा अवैध रेत का खनन कर बाजार में बेचा जा रहा। इससे संबंधित समाचार पत्रकार द्वारा प्रकाशित किया गया था उसके बावजूद अब तक उस प्रकरण में भी अधिकारी द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई। यदि जल्द ही डोंगरगांव घटना के जिम्मेदार दोषियों की गिरफ्तारी नहीं की जाती और जिले में बढ़ अवैध रेत खनन पर रोक नहीं लगाई गई तो जनताकांग्रेस के द्वारा उग्र आंदोलन किया जावेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close