Breaking

कोरोना वायरस संक्रमण ने बाजार की अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ डाली, दो वर्षों से शादी ब्याह का सीजन भी रहा ठप,

मनीराम सिन्हा की खास रिपोर्ट नरहरपुर-  एक ऐसा वायरस भारत मे आया जिसने लोगों के जिंदगी की तस्वीर ही बदल डाली लोगो ने जिसकी कल्पना भी नही की थी, लोगो को जीवन जीने की एक नई सिख मिली है। कोरोना वायरस महामारी ने जहां एक ओर लोगों को संक्रमित किया तो वहीं कई लोगों ने अपने जान भी गंवाए, नरहरपुर ब्लॉक मुख्यालय होने के कारण खरीदारी करने लोगो का आना जाना हमेशा लगा रहता है। लगातार दो वर्षों से कोरोना वायरस संक्रमण ने बाजार के अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ डाली। जून 2020 में जब लॉकडाउन खुलने लगा तो व्यापारियों की आर्थिक स्थिति में सुधार आते जनवरी फरवरी में स्थिति अच्छी होने लगी थी, लेकिन इस वर्ष 2021 के  मार्च अप्रैल में वायरस इतनी तेजी से फैलने लगा कि सरकार को इसे रोकने हेतु फिर लॉकडाउन लगाने पर मजबूर होना पड़ा जिसके बाद फिर से इसका सीधा असर व्यापारियों पर पड़ा कांकेर जिले में 19 अप्रैल से लॉकडाउन लगाया गया। इसकी वजह से बाजार की चाल और ज्यादा बिगड़ गई, बाजार में मंदी का असर देखने को मिला और अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ, व्यापार में हुए नुकसान की भरपाई करने में व्यापारियों की कमर टूट गई। करीब एक माह के लॉकडाउन अवधि में अधिकांश दुकान व प्रतिष्ठानें बंद रहे। सभी वर्ग के व्यापारियों पर इसका व्यापक असर पड़ा होटल-रेस्टोरेंट, किराया भंडार, कैटरिंग, रेडिमेड वस्त्र, बर्तन , इलेक्ट्रॉनिक, फूल, सजावटी समान से जुड़े व्यवसाय पूरी तरह प्रभावित हो गए। सर्राफा और निर्माण से संबंधित व्यवसाय में भी आर्थिक मंदी का असर रहा। खासकर, फुटकर विक्रेताओं की माली हालत खराब हो गई। मई माह के अंत से सरकार ने आर्थिक गतिविधियों को अनलॉक करने की प्रक्रिया शुरु की। लेकिन समय निर्धारित होने पर व्यापारियों में थोड़ी मायूसी देखी जा रही है, लेकिन धीरे – धीरे अर्थव्यवस्था पटरी पर आने में मदद मिलेगी। व्यापारियों का कहना है कि कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन अवधि में कई त्योहार के सीजन बेकार चले गए। दुकान व प्रतिष्ठानें बंद रहने से उपभोक्ताओं ने खरीदारी नहीं की। कोरोना महामारी और लॉकडाउन के कारण व्यवसायिक गतिविधियां प्रभावित हुई।
दो वर्षों से शादी ब्याह का सीजन रहा ठप
हर मां बाप का सपना होता है कि वे अपने बेटे – बेटी की शादी बड़ी धूमधाम से करे लेकिन कोरोना वायरस ने इस पर रोक लगा दी, कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से लगातार 2 वर्षों से शादी ब्याह का सीजन पूरी तरह प्रभावित हुआ है जिसमें सबसे ज्यादा किराया भंडार, कैटरिंग,  बैंड बाजा, डीजे संचालक वाले व्यापारियों को काफी नुकसान का सामना करना पड़ा। चूंकि अप्रैल, मई में शादी ब्याह का मुहूर्त सबसे अधिक होता है और ऐसे में अप्रैल-मई के महीने में लॉकडाउन होने के कारण कई लोगो ने शादी की  तिथि को आगे बढ़ा दिए हैं। शासन के नियम में महज 10 लोगो की अनुमति प्राप्त है जिसके कारण कई लोग 10 लोगों की उपस्थिति में अपनी शादी संपन्न करा रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close